Panktiyan-DEC-2014

जब भगवान ने मुझे बनाया, तो भगवान बोला :  OMG   😛
———————————————————————————————————————————————
मन तो बहुत है कुछ कहने का पर रोना आजकल का फैशन नहीं,
इसीलिए मुस्कुरा कर जीने का नाटक करता हूँ ।
——————————————————————————————————————————————–
मुझे इस बात की तकलीफ नहीं की दोस्तों ने मेरा दिल तोडा,  मुझे तकलीफ तो खुदा से है जीसने मुझे ये दिल दिया है ।
———————————————————————————————————————————————
उदासी में अब वो मरहम है जो ख़ुशी के घाव ने दिया ।
———————————————————————————————————————————————
क्या करे इस ज़ालीम दुनिया में इन्सान ही नहीं पैमानो की भी क़द्र नहीं होती ।
———————————————————————————————————————————————
शराब होती है ज़हरीली कोई बनाने वाले सेभी पूछे क्या ये दिल तोड़ कर बनायीं है ?
———————————————————————————————————————————————
मुझे तो  खुदा ने बेअकल भेजा था पर ये ज़माने ने बेवकूफ बोल – बोल कर समझदार बना दिया ।
———————————————————————————————————————————————
दिल के आलम को शब्दो में पिरोने की कोशिश जब भी कि है कम्भख्त धागा ही कमजोर निकला ।
———————————————————————————————————————————————
मेरी शायरी का अंदाज़े – बयां कुछ ऐसा है दोस्तों जो दिमाग से पढ़े वो कुछ ओर समझता है
और जो दिल से समझता है वो हमे समझता है ।
———————————————————————————————————————————————
मानाकि दुनिया में लोग मतलबी होते है इसीलिए ए – खुदा  तेरे दर पर दस्तक दी थी, पर मुझे क्या पता था,
कि तुभी उनकी जमात में शामिल हो जायेगा ।
———————————————————————————————————————————————
जब  हम कारवां में शामिल होए तब वो गुमनाम थे , और जब हम रुख्सत होए तब हम बदनाम हो गए ।
———————————————————————————————————————————————
वो शख्स जिसे ना मिला शराब का सुरूर, औऱ ना प्यार का नशा , उसे आज हम दोस्तों बदनसीब बोलते है ।
———————————————————————————————————————————————
जितने लोग मुगालते नही पालते उतने तो हम लफड़े पालते है । ……….  😛
———————————————————————————————————————————————
आज देखा उसे नकाब में, चहरे पर नहीं उसकी आँखों में लाखो सवाल थे।
पलकों को फलक पर सजा के बैठी थी वो मेरे दीदार में,
पलके उसकी उठे तो सूरज निकल आये , उसकी पलके झुके तो चाँद खील जाये ॥
———————————————————————————————————————————————
कोई गमो में गुमनाम होता है कोई महफ़िलो में,
कुछ दिलो में गुमनाम होते है तो कुछ दिलो के लिए।
———————————————————————————————————————————————
अब कहा खून बहता है नसो में, अब तो सिर्फ तेरे प्यार के नशे से ज़िन्दगी चलती है ।
———————————————————————————————————————————————
हर लावारिस  का वारिस हूँ मै, क्योकि लोग मुझे ऐसे ही फरिश्ता नहीं कहते है ।
———————————————————————————————————————————————
ज़िन्दगी कुछ इस तरह निकल रही है कि ना रहा ठिकाना ख्वाबो का ना अफ़सानो का ,
बैठा तेरे दर पर एस आस में कि तेरी मुस्कान पर कब खिले मेरे दर्द का फ़साना ।
———————————————————————————————————————————————
अल्फ़ाज़ के वजन से हम इज़हारे-ऐ-इश्क़ किया करते थे , और मुक़द्दर हल्का होता चला गया ।
Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s