शहरों का कड़वा सफ़र भाग – ३

Marin Drive
Mumbai

तो पेश-ए- खिदमत है “SHARMA PRODUCTION”  की “शहरों का कड़वा सफ़र भाग – ३” ::

उससे पहले कुछ पंक्तिया उस शहर के लिए :

ऐ दिल है मुश्किल जीना यहाँ जरा हटके जरा बचके ये है बॉम्बे मेरी जाआआआअन ……..

आएये जनाब अवंतिका एक्सप्रेस का टिकट लेकर बैठते है है और सुबह ५:३०  बजे आप होगे मुंबई के बोरीवली इलाके तो बस फिर पैरो में ताकत लगाये और शुरु भागमभाग की तेज़ ज़िन्दगी जहा हर कोई रेस में लगा है, कोई पैसे की रेस करता है और कोई पैसे के लिए रेस करता है।

तो अब एस शहर के बारे में क्या बताये बचपन से फिल्मो में आपने वैसे ही बहुत कुछ देखा होगा पर में वो आपको नहीं बताओगा, में वो बताओगा जो आप सिर्फ सुन कर छोड़ देते है या यु कहे की “अपने को क्या करना छोड़ो”  😛

तो में आप को अपनी २४ घंटे की लाइफ बताता हूँ : सुबह चाय और वड़ापाव का नाश्ता किया और चले गए 9:13 min की लोकल पकड़ने बोरीवली के प्लेटफ़ॉर्म नंबर 8 पर अभी ट्रेन में थोडा टाइम है तो में आप को प्लेटफ़ॉर्म नंबर 8 की story सुना देता हूँ ।

ये बताये 8 number के पहले 7 आता है और 7 के पहले 6 लेकिन, बोरीवली के प्लेटफ़ॉर्म पर 1 नंबर के बाद डायरेक्ट 7 आता है यहाँ जगह की कमी के चलते शायद ऐसा किया गया है और अगर आपके लिए मुंबई नयी है तो ये भी आप का एक अछा कडवा अनुभव होगा।  चलिए जनाब ट्रेन आ गयी है और मुझे फर्स्ट क्लास में चड़ना है 😛  अरे बस नाम का फर्स्ट क्लास है भीड़ नार्मल coach से भी ज्यादा होती और में जब भी भीड़ शब्द का प्रयोग करो यहाँ तो आप अपने दिमाग में जो “भीड़ ” का imagination करे उसे 5x  बड़ा दीजियेगा ।

जी जनाब मै ट्रेन के फर्स्ट क्लास के डब्बे में चढ़ गया और ट्रेन के हर कोच में स्पीकर allowance  करता है “पुणे स्टेशन xyz ” जो कि ३ भाषाओ में बोला जाता है मराठी , हिंदी और English. मेरा स्टेशन आने में बहुत टाइम है मुझे Santacruz उतरना है उसके पहले बड़ा स्टेशन Andheri आएगा जहाँ लोकल ट्रेन काफी खली हो जाती है  मतलब आप थोडा सांस आसानी से ले सकते है 😛  इसके बाद मुझे उतरना है तो मै २ स्टेशन पहले ही आगे आ जाता हूँ वैसे में ट्रेन का स्टोपेज टाइम बताना भूल गया 8 – 10 सेकंड होगा लगभग अब आप अपने हिसाब से लगा लीजिये।

मै उतरकर ऑटो पकडने की कोशिश करूगा यहाँ हमारे छोटे शहर जैसे नहीं है कि ऑटो वाले आप को आवाज़ लगा के बोलोेगे “कहा जाना है ?” यहाँ हम को पूछना पड़ेगा और वो भी 4 -5 बार try करने के बाद आप को ये सवारी का आनद प्राप्त होगा । आप जैसे ही सोचे गए कि चलो यार आज ऑफिस टाइम पर चले जायेगे वैसे ही आपको ट्रैफिक जाम का सामना करना पड़ेगा हो गए फिर आप कम से कम आधा घंटा लेट  😦

ऑफिस में आप शाम तक काम करेगेना अरे जनाब हा – ना तो बोलिये यहाँ शाम मतलब 9 बजे तक average टाइम वैसे मेरी शाम लगभग हर बार अगले दिन ही होती थी (12 बजे के बाद) बस शाम को भी आपको इतने ही कड़वे अनुभवओ के साथ अपनी यात्रा करनी पड़ती है या इस से भी ज्यादा जैसे कि गणपति के समय, ट्रेन की हड़ताल, ऑटो की हड़ताल या कही कोई Blast तो नहीं हो गया । जी हा दोस्तों ये यहाँ कि सबसे कड़वी सच्चाई और में ये चाहता हूँ कि किसी को भी इसका अनुभव ना हो : आंतकवाद हालाकि यहाँ की पुलिस काफी मुस्तदे पर इतना बड़ा शहर और 1. 5 करोड़ लोग कहा तक कीस-२ पर नज़र रखे ।

मुम्बई, अरब सागर के किनारे पर बसा एक  खूबसूरत शहर पर इस शहर बहुत आतंकवादी हमले सहे है १९९३, २००३, २००६, २००८, २०११  ना जाने कितने ज़ख़्म हे  इस शहर पर, ये शहर अपनी पूरी रफ़्तार से हमेशा हमारे हमारे भारत देश की economic capital बनकर मजबूती देता आया है । TV और news channel से आपको ये जानकारी मिल ही जाती होगी ।

अब मित्रो में आपका ध्यान थोडा खाने की तरफ लाना चाहूँगा, आप अगर यहाँ कीसी restaurant में खाने गए और वो दिन सन्डे का हे तो आप  लम्बी कतार में है । जब आप खाना आर्डर करेगे तो रोटी करेगे ही अगर  बोला ‘रोटी’ तो इसका मतलब ‘तंदूरी रोटी मैदे वाली‘ 🙂 , अगर बोला ‘चपाती‘ तो लगभग एक transparent रोटी आयेगी  :), आपको अगर घर जैसी चाहिए तो बोलो ‘फुल्का ‘  😛  ।  ये भी एक अच्छा अनुभव हो सकता है।

अब में इस post को ज्यादा नहीं खीचते होए , आप एक लाइन में बताता हो कि अगर “आप मुम्बई में है , तो आप कतार में है” ।  ना तो ये शहर छोटा है कि मेरी एक post मेर आ जाये इस के लिए तो मुझे 3 घंटे की movie ही बनानी पड़ेगी ।

तब तक के लिए नमस्कार ये वर्ष आप सभी के लिए शुभ रहे “Happy new year : 2014” …  🙂 ।

Advertisements

One thought on “शहरों का कड़वा सफ़र भाग – ३

  1. कोई पैसे की रेस करता है और कोई पैसे के लिए रेस करता है।……. Waah Waah….. 🙂

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s