शहरों का कड़वा सफ़र भाग – 1

Ujjain-Mahakaal-Mandir : JAI MAHAKAAL

उज्जैन एक छोटा  सा  शहर लेकिन  यहाँ  के  लोग  इसे  मुंबई  से  छोटा  नहीं समझते क्यों की अगर  आपने  किसी  को बोल दिया  की ओल्ड  सिटी  से  न्यू  सिटी  जाना  है  तो  जवाब  आये  गा  “इति  दूर  जानो  है …….ओ  बाई  घनी दूर  है ”|

अति  संतोषी  लोगो  का  ये  शहर  है  जहा  कोई ज्यादा  कामकाज  है  नहीं  फिर भी  लोग  धार्मिक  नगरी  बोल  के  अपनी  दुकान  और  घर  जैसे -तैसे  चला  रहे  है|

अगर  किसी  मेट्रो  सिटी  के  होटल  में  कोई  दुर्घटना  हो  जाये  तो  अगले  दिन  न्यूज़  पेपर  के  फ्रंट पेज  पे  आता  है  और  अन्दर के  पेज  पे  आता  है  “उज्जैन  के  होटल्स  है  असुरक्षित | ”

यहाँ पर लोग  शादी  में  और  धार्मिक  कार्यक्रम  में  DJ तेज़  आवाज  में  बजा  कर  अपने  आप  को  काफी  आधुनिक समझते है |

रोड  पर जायदा  ट्राफ्फिक create कर  के  बार-बार होर्न  बजा  कर  जल्दी  में  होना  दिखा  ते  है  पर काम  कुछ  भी  नहीं  होता  आधो  को  जॉन  अब्राहम बन ने  का  शौक  है  तो  बाकि  लडकियों  के  पीछे  bike भगा  के  80 r/s per litter पेट्रोल  का  खर्चा खुद  के  पिताजी  का  करवाते  है |

लेकिन आज  से  काफी  साल  पहले  ये  शहर  सची का मुंबई  होता था  जहा  एशिया  के  3-4 सब  से  बड़ी  मिल  थी , छोटे -मोटे  कपडे  के कई कारखाने चलते थे, बर्तनों के  बड़े  बाज़ार  जहा  लोग दूर – दूर  से  बर्तन  खरीद  ने  आते  थे|

मुंबई  जैसे  लोकल  ट्रेन  इस शहर  में  चला करती थी  छोटी  जरुर  थी , फिल्मो  के  काम  भी  होते  थे  यहाँ  रोज़गार  भरपुर  था  नौकरी  में  1:3  का  रेशो   था  मतलब  एक  बन्दे  पे  शहर  में  3 नौकरी  थी .

तब  ये  शहर  MP का  मेट्रो  सिटी  था  जो  रात  दिन  काम  करता  पर  अब  यहाँ  10 बजे  बाद  सिर्फ  सुनसान  रहता  है . इसे  लोगो  ने  अब  धार्मिक  शहर  बना दिया है  इस  शहर  के  लिए  तो  में  क्या  देवता  की  भी  स्याही  खत्म  हो  जाये  तो में क्या चीज़ हूँ|

ये  इस  शहर  की  सिर्फ कुछ negative  points है  क्यों  के  ये  है  “शहरो का  कड़वा  सफ़र  भाग -1” अगले  भाग  में आप लोगो को भोपाल ले जाओ  गा  जहा  मेने  BE के  साथ  हर  वक़्त  मिलिटरी  ट्रेनिंग  ली  है ….

लेकिन  इसी  के  बाद  इन्ही  शहरो  का  सुहाना सफ़र  भी  होगा  दोस्तों …….उस  के  लिए  “थोडा  इंतजार  का  मज़ा लीजीये ”.

तब  तक  के  लिए  नमस्कार…….

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s