खूनी ठंडक

Sunday late night stories.

तो पेश-ए- खिदमत है “SHARMA PRODUCTION”  की FIRST स्टोरी…………

“ये गर्मी मांगे खून :: खूनी ठंडक “

आज ऑफिस का OFF था इस लिए सोचा cooler ले ही लू .

शनिवार का दिन तेज़ गर्मी temperature  करीब 42C होगा. दोस्त का फ़ोन आया cooler लेने अभी चलते है  मेने भी सोचा चलो ठीक है दिन में थोडा आराम से सोया जाये गा दुकान पर गए कुलेर देखा और पसंद किया लाने के लिए में ने सोचा  के चलो  यार पास में ही तो जाना है bike  पर ही निकल जाये गे .

बस फिर क्या था उठया और निकल लिए करीब 2min bike चली हो गी और मोड आया हां बस इधर ही ले-ले लेफ्ट में और उसी वक़्त एक बास से टकराया और cooler की ब्लेड जैसे तेज़ धार वाली जाली से left hand thumb कट गया और cooler और में रोड पर गिर गया और  देखा के cooler को कही लगी तो नहीं इतने में एक आदमी बोला अरे 1000 – 500 की चीज़ को क्या देख रहे हो पहले हाथ देखो कितना खून टपक रहा मेने मन में सोचा और बोला अरे cooler 3000 का है thumb तो ३०० में ठीक हो जाये गा. बस फिर जैसे तैसे cooler घर रखा मेरे दोस्त ने मुझे गाड़ी पर बिठाया और चल दिए हॉस्पिटल की तरफ , करीब 1 km तक कोई हॉस्पिटल खुला नहीं था blood बंद नहीं हो रहा फिर एक हॉस्पिटल देखा तो “जान में जान” आई पर जैसे ही हॉस्पिटल के अन्दर गया “जान निकल गयी”.

पहले एक काम करेने वाली lady आई मतलब बाई आई और मुझे first floor पर ले जाने के लिए lift का button press किया वो lift 2min में नीचे आयी और हम इस तरह से टोटल 5min में करीब first floor पर गए वाहा OPD में जहा करीब 70  साल की lady ने पुछा भैया क्या हो गया मेने उन्हें अपनी स्टोरी बता दी. एसा करते वक़्त मेने ने देखा की ब्लीडिंग होते होते करीब 15min हो गए, उसके बाद दो बन्दे आये फिर वही सब पुछा मेने फिर बताया. अब उन्होंने बोलो इस में तो stitches लगे गे मेने कहा थिक है, उन्होंने मेरे दोस्त को एक परचा दिया और कहा जाओ ये medicines  ले आओ वो गया उसको भी करीब 20min लग गए उन 20min में उन दो बन्दों ने मेरे thumb और उस से निकल रहे blood से काफी एक्सपेरिमेंट किया जैसे कुछ सिख ने की  कोशिश कर रहे हो  मेरे दिमाग ख़राब होना चालू होगया पर क्या करे ध्यान सारा blood  में लगा था फिर वो दोनों एक एक दुसरे को राय और समझाने में जूट गए इतने में blood clotting होना चालू हो गयी और blood बंद हो  गयी उतने में एक बन्दा ने cotton से फिर अंगूठा को दबा दिया फिर ब्लीडिंग स्टार्ट हो गयी इतने में  दूसरा बन्दा बोला  “अरे भाई सांति रख उसको मत कर एसा” मेने मन में सोचा शायद इसको कुछ आता है पर में अगले 10min में फिर गलत साबित हो गया.

मेरा दोस्त आब सामान लेकर आ चुका था उन्होंने thumb की जगह को  sensation less करने के लिए injection दिया में ने उस से कम से कम 7 -8  बार बोला के ये असर नहीं कर रहा है पर उन्होंने नहीं सुना और दे दिए stitches , 2 stitches लगा ने के बाद बोल ते है “यार यहाँ stitches नहीं लग पाए गे” ब्लीडिंग अभी भी जारी थी मेने कहा भाई dressing कर दे जल्दी से, मेरा हाथ वीक होता जा रहा उस ने बोला “सर 5min रुको ये stitches निकाल ने पड़े गे” अब टोटल टाइम लगभग 1 घंटा हो चूका था मतलब उस में और 5min और add कर दी जिए फिर उन्होंने stitches निकाल कर dressing की उस में करीब उनको 20 min लग गए आखिर में blood  बंद होगया तो मेने टोटल टाइम calculate किया 1 घंटा 25 min में काफी blood निकल चूका था पर finally में अब जाने के लिए ready था तभी उनको याद आया की tetanus injection  और pain killer injection  अभी बचा है मेने कहा भाई जल्दी लगा दे उन्होंने injection एसा लगाया के कही इस में air bubble रह गया तो मेतो अभी निकल लू गा जैस तैसे उन्होंने 2  injection लगाये और bill थमा दिया 200 का मेरा  और दिमाग ख़राब हो गया मेने दोस्त बोला अब निकल लेते है वरना में इनको dressing का भी मौका नहीं दू गा और ये उपर निकल ले गे.

रूम पर आकर नए “khooni cooler” में पानी भर कर ठंडी हवा खाने बैठ गया मेने दोस्त से बोला याद रहे गा ये Cooler.

शाम होई रूम से बहार निकला तो सभी ने पुछा क्या हो गया मेने फिर मेरी स्टोरी repeat करी फिर उनमे से एक ने हॉस्पिटल का नाम पूछ लिया मेने जेब से पर्ची निकल के देखा तो नाम देख कर तो मुझे भी हसी आ गयी “kd care hospital indore”  मेने मन में सोचा यहाँ केयर तो कुछ है ही नहीं. जब मेने ये नाम उन महाशय को बताया तो वो भी जोर से हँस दिए मेने उनसे हँस ने का कारन पुछा तो उन्होंने बोला आज से 5 साल पहले ये हॉस्पिटल बढ़िया था पर अब नहीं.

दोस्तों ये कहानी सिर्फ ये बता ने के लिए नहीं लिख रहा हूँ के मेर thumb अगले 7 दिनो के लिए “OUT OF ORDER” है बल्कि इसलिए की अगर कल से कुछ “emergency” हो तो आप को सही हॉस्पिटल का पता होना बहुत ज़रूरी वरना भगवान् ही मालिक है फिर आपका ||

नमस्कार !

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s